QUIZ FOR UPSC , CGPSC ,SSC , BANK , RAILWAY & ALL STATE EXAM - 01 JobABCD.com : latest job , result , admission | study notes

QUIZ FOR UPSC , CGPSC ,SSC , BANK , RAILWAY & ALL STATE EXAM - 01

WWW.JOBABCD.COM
test -1
1.    राज्यों में अधिकतम कितने समय के लिए राष्ट्रपति साशन लग सकता है –
2 माह
3 माह
5 माह
6 माह
2.     आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने किस ग्रन्थ को बड़ा भारी कवि वृत संग्रह नाम दिया -

           अशिवसिंह सरोज
           द मॉडर्न वर्नाक्युलर लिटरेचर ऑफ़ हिन्दुस्तान
          मिश्र बन्धु विनोद
          इस्तावर ला लितरेत्युर ऐन्दुई ऐन्दुस्तानी
3.     राष्ट्रपति अपना त्यागपत्र की से सौपता है –
राज्यपाल
उपराष्ट्रपति
प्रधानमंत्री
भारत के मुख्यन्यायधीश
4.     संगत कथन को छाटिये -
आचार्य राम चन्द्र शुक्ल ने हिंदी साहित्य का इतिहास ग्रन्थ में
साहित्येतिहास को आलोचना से अलग नहीं किया
रचनाओ के साहित्यिक मुल्यांकन को प्राथमिकता दि
दोहरे नामकरण की परम्परा प्रारम्भ की
भक्ति काल को दो भागो में बाटा
सिर्फ 2
2,3,4
1,2,3
उपयुक्त सभी
5.     सिद्धो की वाममार्गी भोग प्रधान योग्य साधना की प्रतिक्रिया स्वरूप कोन सी प्रवृति सामने आई -
नाथो के हट योग साधना
जैनों की मुक्तक शैली
रासो साहित्य की श्रृंगारीकता
नाथ साहित्य की उपदेशात्मकता
6.     यह गूंज मात्र है शब्द नहीं आचार्य रामचंद्र ने किस रचना के बारे में कहा -
बीसल देव रासो
खुमाण रासो
परमाल रासो
जयचंद प्रकाश
7.     राष्ट्रपति राज्य सभा में कितने सद्श्यो को नामांकित कर  सकता है
12
20
10
9
8.     विधा पति को भक्त कवी मानने वाले  विद्वान कौन थे-
हजारी प्रसाद द्विवेदी
रामचंद्र शुक्ल
राम वृक्ष बेनी पूरी
नामदेव
9.     कबीर की भाषा को पंचमेल खिचड़ी किसने बताया -
हजारी प्रसाद द्विवेदी
रामस्वरूप चतुर्वेदी
रामचंद्र शुक्ल
श्यामसुन्दर दास
10.     आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी ने आकाश धर्मा गुरु किसे कहा -
रामानुजाचार्य को
रामानंद
ज्ञान देव
नामदेव

test -2
1.      कयाबेली के रचनाकार कौन है
दादूदयाल
मलूकदास
सुन्दरदास रज्जब
2.      इडन गार्डन कहा पर स्थित है –
कोलकाता
पटना
रांची
रायपुर
3.     आचार्य शुक्ल ने सूफी पद्धति का अंतिम ग्रन्थ माना है
अनुराग बासुरी को
इंद्रावती को
ज्ञान द्वीप
हंस जवाहिर को
4.     बुझत श्याम कौन तू गोरी कहा रहत काफी है तू बेटी देखी नाही काहू ब्रज की खोरी पंक्तियों में सूरदास कहते है
प्रेम का सूत्र पात
श्रृंगार का वर्णन
परिचय से प्रेम का सूत्र पात
राधा और कृष्ण का चित्रण
5.     कालिदास से मुक्ति पाने के लिए तुलसीदास ने रचना की थी -
वैराग्य संदीपनी की
 गीतावली की
बरवै रामायण की

विनय पत्रिका की 

6. येन-काओ-चेन को साधारणत: इस नाम से ही जाना जाता है
 कदफिसेज प्रथम                                कदफिसेज द्वितीय
 कनिष्क                                          वशिष्क